Mathura ke Pede
Mathura ke Pede

Mathura ke Pede – मथुरा के पेड़े : जिसने खाए है वो यही कहता है कि मथुरा के पेड़े से अच्छा और स्वादिष्ट पेड़ा कहीं और नहीं मिलते | ये आम पेड़ों से अलग ब्राउन रंग के होते है | तो आईये आज हम आपको मथुरा जी के पेड़े बनाना सीखते हैं | पारम्परिक मथुरा जी के पेड़े बनाने के लिये मावा और पीसी हुई चीनी का उपयोग होता है | मावा और पीसी हुई चीनी आप बाजार से ला सकते हैं | ध्यान दे कि मावा दानेदार लेकर आयें और पीसी हुई चीनी (बूरा) आप घर पर बना सकते है, ये भी दानेदार होना चाहिए |

मथुरा जी के पेड़े बनाते समय मावा को अधिक से अधिक भूना जाता है | मावा भूनते समय बीच बीच में थोड़ा थोड़ा दूध या घी डालते रहते हैं | जिससे इसे अधिक भूनना आसान हो जाता है | भूनते समय मावा जलता नहीं और मावा का कलर हल्का ब्राउन हो जाता है | मावा जितना अच्छा भुनता है स्वाद भी उतना ही अच्छा होता है | आइये बनाना शुरू करते हैं मथुरा के पेड़े |  ऐसी और रेसिपीज को देखने के लिए यहा क्लिक करे |

आवश्यक सामग्री – Ingredients for Mathura ke Pede

खोया या मावा – 250 ग्राम
पीसी हुई चीनी (बूरा) – 250 ग्राम
घी – 2 टेबल स्पून या 1/4 कप दूध
छोटी इलाइची पाउडर – एक बड़ा चम्मच

विधि – How to Make Mathura ke Pede

कढ़ाई में मावा डाल कर भूनिये (कढ़ाई भारी तले की होनी चाहिए) | भूनते समय लगातार कलछी से चलाते हुये भूनिये मावा कढ़ाई में लगना नहीं चाहिये | जब मावा भुनते भुनते रंग बदलने लग जाय | तब उसमें थोड़ा थोड़ा सा घी या दूध मिलाते रहिये और चला चला कर तब तक भूनिये जब तक कि वह ब्राउन कलर का न हो जाय | मथुरा के पेंडो के लिए मावा ब्राउन कलर का होना चाहिए |

मावा को ठंडा होने दीजिये, जब ये ठंडा हो जाय तब उसमें 200 ग्राम बूरा डाल कर अच्छी तरह मिलाइये | इलाइची पाउडर भी इस मिश्रण में मिला दीजिये | साधारण पेड़ों की तुलना मे मथुरा के पेड़ों मे इलायची ज़्यादा होता है | पेड़े का मिश्रण तैयार है |

बचा हुआ 50 ग्राम बूरा एक प्लेट में निकालिए | मिश्रण से थोड़ा सा मिश्रण एक छोटे नीबू के बराबर निकालिये और हाथ में लेकर गोल करके, हाथ से दबा कर, पेड़े का आकार दीजिये | पेड़े को प्लेट में रखे हुये बूरे में लपेटिये और अपने दोंनो हाथों की हथेलियों से पेड़े को हल्का सा दबाकर प्लेट में रखते जाइए | आपके लाजबाव मथुरा के पेड़े तैयार हैं |

पेड़े को 2-3 घंटे के लिये खुले पंखे की हवा में छोड़ दीजिये, ये थोड़े खुश्क हो जायेंगे | अब आप इनको एअर टाइट कन्टेनर में भर कर फ्रिज में रख दीजिये | यदि मावा अच्छी तरह भूना गया है तो ये पेड़े आप 15 दिन भी रख कर खा सकते हैं | सर्दियों के दिनों मे आप इन्हे बाहर हो रख सकते है |

नोट

मथुरा के पेड़े पारंपरिक तरीके से गाय के दूध के खोए से बनाए जाते है | यह उपलब्ध ना होने पर भैस के दूध का खोया भी इस्तेमाल कर सकते है |

 

Air Tight Box Amazon से खरीदने के लिए क्लिक करे – https://amzn.to/2DiAqSl

दोस्तों हमारे साथ यूट्यूब पर जुड़े रहने के लिए Ghar Grihasti चैनल को निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके सब्सक्राइब करे धन्यवाद |

https://www.youtube.com/channel/UCVfaSe1Mv2y_Xn-ZGYv5Yqw?sub_confirmation=1

दोस्तों ऐसी और रेसिपी वीडियोस के लिए आप मेरे दूसरे चैनल Cook With Smriti को भी सब्सक्राइब कर सकते है, इस के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे |

https://www.youtube.com/channel/UCIRIiUPOqcxcHRWcU7GfgWA?sub_confirmation=1

(Visited 60 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here